इस अर्थव्यवस्था में अपनी नौकरी के लिए अपने आप को तैयार करना।

इस अर्थव्यवस्था में अपनी नौकरी के लिए अपने आप को तैयार करना।

कल मेने एक आर्टिकल पढ़ा जिसमे ये बताया गया के आज की अर्थव्यवस्था में आप अपनी नौकरी के लिए कितना तैयार है

आप अपनी नौकरी की तलाश में कहा तक जा सकते है मेने जब अपनी कॉलेज की पढाई खतम करि थी थी तो मेरा लक बहुत अच्छा था के मुझे नौकरी मिल गयी थी लकिन मेरे कुछ दोस्त जिन्होंने मेरे साथ पढ़ाई पूरी करी वो नौकरी चाहिए और ना पा सके।

कुछ दोस्त ऐसे भी थे जिन्होंने बहुत ही अच्छे कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन पूरी करि थी उसके बावजूद उनका लक इतना अच्छा नहीं था कुछ को नौकरी न मिलने पर उन्होंने अपनी पढाई जारी राखी और अपने मास्टर्स की तैयारी में चले गए।

पहली नौकरी पहला द्वार है जो आपको भी नहीं पता के आपको किस मुकाम तक ले के जा सकता है। में बिकुल नयी थी जब मुझे नौकरी मिली तो मुझे पता भी नहीं था के क्या में ये नौकरी कर पाउगी और में बहुत डरी हुई थी।

लकिन फर भी मेने सोचा के अगर में अपनी पढाई पूरी करने के बाद भी जॉब ना पा सकीय तो मेरी पढाई का होइ मतलब नहीं है। लकिन मेने जो सोचा वही हुआ मुझे नौकरी मिली जिसके लिए मेने अपने आप को तैयार किया था।

जब आपको कोई नौकरी मिल जाती है और वो नौकरी आपके अनुसार बिलकुल सही होती है तो आप अपने स्किल को बढ़ा के अपने आने वाले रास्ते और नयी जॉब्स को रेडी कर सकते है जो आपको फ्यूचर में आपकी क्षमता के अनुसार आपको एक अच्छे लेवल पर लेके जाएगी जहा आपकी सैलरी में भी अच्छी खासी बढ़ोतरी होगी।

मेरा मानना ये है जब आप किसी को जॉब या नौकरी चाहिए तो आप उसे करे अपने हुनर को यु ही ख़राब ना होने दे।

Leave a Reply